भोसड़ी वालों एक तो ग्रुप बनाया, तुम सब को जोड़ा, अपने बच्चों की तरह समझा, कभी किसी मे भेदभाव नहीं किया, ग्रुप एडमिन होने के सारे फ़र्ज़ निभाता हूँ, रोज़ नये नये जोक्स भेजता हूँ, ज्ञान की बाते भेजता हूँ, ब्लू फिल्म भेजता हूँ, नंगी तस्वीरे भेजता हूँ, तुम्हें मुट्ठ मारना सिखाया, चोदना सिखाया, मुर्गे कुकड़ू कु बोले उस से पहले तुम्हें गुड मोनिॅग बोलता हूँ, तुम अपना मोबाइल रिचार्ज करो या नहीं मैं हर हर महीने 600 का 3G पैक रिचार्ज करवाता हूँ, सिर्फ तुम्हारे लिए।

लेकिन तुम लोग मेरी ही गांड मारने पर तुले हो।

हमारा एडमिन ये, हमारा एडमिन वो, हमारा एडमिन ऐसा, हमारा एडमिन वैसा, हमारा एडमिन चुतिया, हमारा एडमिन गांडू, हमारा एडमिन लोड़ू, हमारा एडमिन लोडे जैेसा, हमारा एडमिन फलाना लिखते रहते हो। अरे ग्रुप ही तो बनाया है कोई पाप थोङे किया है।

गाँड मार लो।

लो अब इस बात पर भी हँसोगे तुम कमीनों।

           

दो बूढ़े शराब के नशे में टुन्न होकर एक कोठे पर सेक्स करने गए।

कोई भी लड़की बूढ़ों से सेक्स के लिए नहीं मानी तो दलाल ने दो रबर की गुड़िया में हवा भर के बूढ़ों को दे दी और बोला, "लड़कियां नशे में हैं। अपना-अपना काम कर लो।"

जब सुबह दोनों कोठे से बाहर निकले तो आपस में बातें कर रहे थे।

पहला बूढा: यार लड़की नशे में नहीं थी, साली लाश थी। सारी रात खुद ही हिल-हिल कर करना पड़ा।

दूसरा बूढा रोते हुए बोला, मुझे तो सालों ने भूतनी दे दी। मैंने जोश-जोश में उसकी चूची काट ली तो सूं की आवाज़ के साथ तेज़ हवा आई और लड़की उड़ के खिड़की के बाहर चली गयी। सारी रात मेरी डर के मारे गांड फटी रही।

           

चश्मे और ब्रा का तुलनात्मक अध्ययन:
1. दोनों की बनावट एक सी होती है।

2. शुरू में दोनों को पहनने में दिक्कत होती है।

3. एक को नज़र आने के लिए और दूसरे को नज़र में लाने के लिए पहना जाता है।

4. उम्र और प्रयोग के साथ दोनों का नंबर बढ़ जाता है।

5. चश्मा उतारने की बाद आँखे मिचमिचा जाती हैं और ब्रा उतरते ही आँखे चौंधिया जाती हैं।

6. चश्मा पहनने के बाद और ब्रा उतरने के बाद उसके इस्तेमाल की चीज़ मूल रूप से बड़ी हो जाती है।

           

एक लड़की की शादी हुई और उसकी सहेली को उसकी सुहागरात के बारे में जानने की बड़ी ही उत्सुकता थी।

सहेली: बता ना कल रात को क्या हुआ?

लड़की: कुछ नहीं।

सहेली: पर कल तो तेरी सुहागरात थी, कुछ तो हुआ होगा?

लड़की: कह रही हूँ ना कुछ नहीं हुआ।

सहेली: अच्छा तो मुझे कल रात की सारी घटना बता।

लड़की: रात को दस बजे मेरे पति कमरे में आये।

सहेली: फिर क्या हुआ?

लड़की: उन्होंने अपना कोट उतारा और खूँटी पर टांग दिया।

सहेली: फिर क्या हुआ?

लड़की: फिर उन्होंने अपनी टाई उतारी और खूँटी पर टांग दी।

सहेली: फिर क्या हुआ?

लड़की: फिर उन्होंने अपनी शर्ट उतारी और खूँटी पर टांग दी।

सहेली: फिर क्या हुआ?

लड़की: फिर उन्होंने अपनी बनियान उतारी और और खूँटी पर टांग दी।

सहेली: फिर क्या हुआ?

लड़की: फिर उन्होंने अपनी बेल्ट उतारी और खूँटी पर टांग दी।

सहेली: फिर क्या हुआ?

लड़की: फिर उन्होंने अपनी पैंट भी उतार कर खूँटी पर टांग दी।

सहेली: फिर क्या हुआ?

लड़की: फिर उन्होंने मेरी साड़ी उतारी और खूँटी पर टांग दी।

सहेली: फिर क्या हुआ?

लड़की: फिर मेरा ब्लाउज उतारा और खूँटी पर टांग दिया।

सहेली: फिर क्या हुआ?

लड़की: फिर उन्होंने मेरा पेटीकोट भी उतारा और खूँटी पर टांग दिया।

सहेली: फिर क्या हुआ?

लड़की: फिर उन्होंने मेरी ब्रा भी उतार कर खूँटी पर टांग दी।

सहेली: फिर तो जरूर कुछ मजेदार हुआ होगा?

लड़की: हाँ हुआ था ना बहुत मजा आया।

सहेली: क्या हुआ था?

लड़की: इतने सारे कपड़े लादने की वजह से खूँटी टूट गई और वो सारी रात खूँटी ही ठोकते रह गए।

           

एक बार पठान का समंदर में सफर कर था कि समंदर में आये एक भयानक तूफ़ान के कारण उसका जहाज़ टूट गया और वो एक टापू पर पहुँच गया। टापू पर पहुँचने पर उसने देखा कि टापू पर एक भेड़ और एक कुत्ता भी थे। तीनो की आपस में गहरी दोस्ती हो गयी।

तीनो अपना ज्यादा समय इकठे ही बिताते। शाम को सूर्यास्त का नज़ारा देखते। एक दिन सूर्यास्त के समय पठान का मन सेक्स करने का हो गया लेकिन उसे वहां कोई ना दिखा तो उसने भेड़ को अपनी बाहों में ले लिया।

यह देख कुत्ता चौकना हो गया। उसने जल्दी से भेड़ को पठान से छुड़वाया और पठान पर भौंकने लगा। पठान समझ गया कि कुत्ता भेड़ को बचाना चाहता है।

फिर उसके बाद वो रोज़ घूमने जाते पर पठान भेड़ से दूर ही रहने लगा।

अचानक एक दिन वहाँ एक और तूफ़ान आया जिसमे एक बेहद खूबसूरत लड़की उस टापू पर पहुँच गयी। जिसे देख पठान बहुत ही खुश हुआ पर तूफ़ान की वजह से लड़की की हालत बहुत खराब थी। पठान ने उसकी खूब सेवा की और उसे दिनों में ही तंदरुस्त कर दिया।

जब लड़की ठीक हुई तो वो पठान से बहुत खुश हुई और उससे बोली, "मैं तुमसे बहुत खुश हूँ, तुमने मुझे नया जीवन दिया है। तुम जो चाहो मैं तुम्हारे लिए वो कर सकती हूँ।"

पठान यह सुन बहुत खुश हुआ और लड़की को अपनी बाहों में लेकर उसके कान में फुसफुसाया, "क्या तुम इस कुत्ते को थोड़ी देर के लिए घुमाने ले जा सकती हो?